Thursday, August 5, 2010

दोस्ती



        माँ की ममता सी होती  है दोस्ती                   
              भाई के सहारे सी होती है दोस्ती,
बहन के प्यार सी होता  है दोस्ती         
                लाजबाब रिश्ता होता है दोस्ती  |

सागर से भी गहरी होती है दोस्ती          .
            जल से  भी शीतल होती है  दोस्ती
    फूलों से भी कोमल होती है दोस्ती               
               हवाओं का संगीत होती है दोस्ती |

     कड़ी धूप में तरुवर होती  है दोस्ती             
             मरुभूमि में निर्झर होती है दोस्ती
चाँद की  चाँदनी होती  है दोस्ती             
               उजाले कि किरण होती है दोस्ती  |

अरमानों  का आइना होती है दोस्ती           
           जीने का एक अंदाज होती है दोस्ती
     उदास चहरे की मुस्कान होती है दोस्ती           
        जीवन का सहारा होती है दोस्ती |



कोलकत्ता
५ अगस्त, २०१०

(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

No comments:

Post a Comment