Tuesday, November 15, 2011

होली

           




हुरियारों   की   आई  टोली
            बजा  चंग सब गाये   होली |             
 भर जाये खुशियो से झौली                                                                                                                                     आओ  मिल  कर खेलें  होली ||     

भर पिचकारी  रंग डालते
          एक  दूजे  पर  हमजोली।
घुटे  भाँग और पिए ठण्डाई
          आओ  मिल कर खेलें  होली  ||

देवर-  भाभी, जीजा-साली,    
            आपस में सब  करे ठिठोली  |
बजे चूड़ियाँ, फिसले साड़ी,
           आओ  मिल  कर खेलें  होली  ||

हर आँगन पायल झनके,
              हर चोखट चन्दन रोली |
तन -मन में है  छाई  मस्ती, 
           आओ मिल कर खेलें होली ||

हर भोलो  कान्हो  लागे,        
                 हर गोपिन राधा गौरी  |    
रंग तरंग की बौछारों  में,        
            आओ मिल कर खेलें  होली ||

(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )



No comments:

Post a Comment