Monday, February 3, 2014

मेरे प्यारे दादी जी

अमेरिका से मुझसे मिलने
आये मेरे दादी जी 
सुन्दर कपडे और खिलौने 
लाये मेरे दादी जी। 

बड़े प्यार से मुझे सुलाये 
मेरे प्यारे दादी जी 
लौरी गाये गीत सुनाये 
मेरे प्यारे दादी जी। 

सेव-पपीता मुझे खिलाये 
मेरे प्यारे दादी जी 
ताजे फल का जूस पिलाये 
मेरे प्यारे दादी जी। 

यह करना है वो नहीं करना
बात बताये दादी जी 
बोतल भर कर दूध पिलाये 
मेरे प्यारे दादी जी। 

लुका-छिपी खेल खिलाये 
मेरे प्यारे दादी जी 
मै रूठूँ तो मुझे मनाये 
मेरे प्यारे दादी जी। 


(आयशा १४ महीने की  हो गयी, तब उसके दादी जी ने उसे देखा है। दादी जी कहती है कि उनका बचपन लौट आया है। आयशा भी अपनी दादी जी गोदी में  खूब खेलती है।)  

No comments:

Post a Comment