Saturday, January 25, 2014

रूठे को मनाये

 जो भी हम से रूठ गये
या जो हमको छोड़ गये
                   
                      आओ उनको आज मनाऐं
                         बड़े प्यार से गले लगाऐं

    एक बार बाहों में भर कर
पुलकित हो कर कंठ लगाऐं
                   
                  अपने मन का द्वेष हटा कर
                      फिर से उनको पास बैठाऐं

 भूल हुयी जो उसे भुलाऐं
वर्त्तमान को सुखद बनाऐं
                       
                          जीवन का है नहीं भरोसा    
                         आने वाला पल क्या लाये

  बैर भाव को मन से त्यागे
दया-क्षमा को फिर अपनाये
                          अपनत्व का भाव जगा कर
                        फिर से प्यार का दीप जलाऐें।














No comments:

Post a Comment