Wednesday, January 22, 2014

बुढ़ापे का दिन

रोज सुबह
अपने चहरे को
समाचार पत्र से
ढक लेता है बुड्ढ़ा

कईं बार पन्नो को
उलट-पुलट कर
एक-एक अक्षर को
पढ़ता है बुड्ढ़ा

सोने से पहले समाचार पत्र
को रख देता है समेट कर
महीने के आखिर में कब्बाडी
को बेचने के लिए बुड्ढ़ा

रात को करवटे बदलता
इन्तजार करता है
नयी सुबह के नये
समाचार पत्र का बुड्ढ़ा

No comments:

Post a Comment