Wednesday, January 22, 2014

खुशियों की सीमा

तुम्हारे साथ साथ
चलती है मेरी
खुशियों की सीमा।

तुम चलते-चलते
जहाँ पहुँच कर
रुक जाती हो
वहीँ पर रुक जाती है
मेरी खुशियों की सीमा।

तुम पीछे मुड़ कर
जहाँ तक देखती हो
वहीँ तक होती है
मेरी खुशियों सीमा।

तुमसे शुरू हो कर
तुम्ही पर ख़त्म होती है
मेरी खुशियों की सीमा।


No comments:

Post a Comment