Monday, March 10, 2014

दिल में बसा है गांव

पचास वर्ष बीत गए
        छोड़े हुए गांव,
            लेकिन आज भी दिल में
                      बसा हुवा है गांव।

उस समय गांव में केवल
      बैल गाड़िया चलती,
                 बहुत दूर कच्ची सडक पर
                          दो-चार बसे मिलती।

 पांच मील दूर जाकर
ईन्तजार करना पड़ता,
                     तभी जा कर कोई
                      बस में चढ़ पाता।

 जब भी मेहमन आता
मौहल्ला खड़ा हो जाता,
                    दूध-दही से घर भर जाता
                     गांव मिलने पहुँच जाता।

शाम पड़े पूरा मोहल्ला
रेडियो सुनने आ जाता,
                  देर रात तक अलाव के पास
                      खूब बातो का दौर चलता।

बेटे-बेटियों के विवाह में
गाँव ख़ुशी में डूब जाता,
               जब बारात में जाना होता
                पांवो में घुँघरू बंध जाता।

गांव में बेटी -बहु को
इज्जत से देखा जाता,
                        सभी की बेटी बहु को
                        अपनी समझा जाता।

गणगौर में कुऐ के पास
 बैलो को दौड़ाया जाता,                  
                    होली में सबके गले मिल
                   प्यार से रंग लगाया जाता।

पचास वर्ष बीत गए
        छोड़े हुए गांव,
                     लेकिन आज भी दिल में
                              बसा हुवा है गांव।

No comments:

Post a Comment