Sunday, March 9, 2014

तुम्हारे साथ

तुम्हारे साथ
मेरा दिन निकलता है
गुलाब के फूलो की तरह।

तुम्हारे साथ
मेरी शाम ढलती है
जुगनुओ की तरह।

तुम्हारा साथ
जीवन की राह में 
चाँद-चांदनी की तरह।

तुम्हारा संग
सुख पल्लवित करता 
फूलो की छांव की तरह।

तुम्हारे अधरों की 
मुस्कान सुख देती 
सबनम की बूंदो की तरह। 

तुम्हारी झील सी
आँखों में मेरा अक्श 
दिखता आईने की तरह। 

हमारे संग सफ़र की 
यादे दिल में बसी है 
किताबो की तरह।











No comments:

Post a Comment