Saturday, March 9, 2013

बचपन लौट आया





चाँद सितारों
ने देखा,
अप्सराओं  ने
भी देखा।

एक नन्ही परी
  धरती पर उतर आई, 
मेरे घर की
चौखट जगमगाई।

खुशियों की
बहार छाई,
परी आयशा बन 
घर में आई।

आँखों में तारे
भर लाई,
घर में सबका
बचपन लाई।

हम लाये 
 उसके लिए खिलौना, 
वो बन गयी
 हम सब का खिलौना।













5 comments:

  1. Bohot achi kavita hai Uncle Ji. :) :)

    ReplyDelete
  2. Aisha bohot lucky hai jo usko aap jaise Dada ji mile!
    Kavita bohot achi hai Papa Ji.

    Rajshree.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये शब्द मेरे लिए सम्मान है।

      Delete