Sunday, March 17, 2013

बीत गए वो दिन





जब से इन्टरनेट आया 
पुस्तको का अलमारियों से 
निकलना ही बंद हो गया।

पुस्तके झांकती रहती है
बंद आलमारियों के शीशों से
जैसे कोई कर्फ्यू लग गया।

अब तो कम्पूटर पर
क्लीक किया और जो पढ़ना
वो स्क्रीन पर खुल गया।

लेकिन पुस्तके पढ़ने का 
जो आनन्द था वो आनन्द
कम्पूटर पर कहाँ रह गया।

पुस्तके कभी गोदी में
तो कभी सीने पर रख पढ़ते
नींद आती तो मुहँ ढक सो जाते।

पुस्तके जब किसी के
हाथो से गिरती तो उठा कर 
देने के बहाने रिश्ते बन जाते।

पुस्तको का आदान-प्रदान
  बांधता प्रेम की डोर से
    माँगने के भी बहाने बन जाते।

पुस्तको में निकलते 
 फूल और महकते इत्र के फोहे  
जो दिल की धड़कनो को बढ़ा देते।

अब बीत गए वो दिन
सब गुजरे जमाने की
बाते  हो गयी। 

अब तो पुस्तके
केवल अलमारियों की
शोभा बन कर रह गयी।







No comments:

Post a Comment