Saturday, May 18, 2013

राबड़ी (राजस्थानी)

ऊँखळ के सागे
मूँसळ भी पड्यो है
दूबक्येड़ो एक कुणा में।

कुण पूछ है अब
सगली बित्ये ज़माना
की बाता रेगी।

एक जमाने नाजुक कलायाँ
ऊँख़ळ में कूटती
बाजरों।

चुड्याँ की खणखणाट
सुणीजती गौर ओ
गुवाड़ी ताई।

रंधतो खदबध खीचड़ो
र बणती छाछ की
राबड़ी।

खार खीचड़ो र
टाबरिया कूदता
घोड़े मान।

खार राबड़ी र
बाबो सोंवतो
खूंटी टाँण।

राबड़ी की थाली
बाबो धोर पिंवतो
जणा केवतों।

सबड़क सुवाद लागे
मीठी लागे
राबडी।

उंणा खुणा सौ भरय़ा
स्याबाश म्हारी
राबड़ी।















4 comments:

  1. Ye wali Papa ko padhaunga. :)
    Bohot acha hai.

    ReplyDelete
  2. पापाजी को कैसी लगी मुझे भी बताना

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. Ke baat hai chachaji marwadi ma bhi itti achchi tarika sa likhya ho ki majo aa gyo... wah bhai wah....

    ReplyDelete