Friday, May 31, 2013

विरासत



क्या हमने कभी
सोचा है कि है कि हम
किधर जा रहे है?

एक पेड़ लगाने की
नहीं सोचते और जंगलो
को काटते जा रहे है।

वायु मंडल में बारूद
और जहरीली गैसे छोड़ कर
वायु को प्रदुसित कर रहे है।

नदियों में गंदा पानी
और फक्ट्रियों के केमिकल
बहा कर नदियों को गंदा कर रहे है।

वाहनों के आत्मघाती
धुंए से ओजोन की परत में
छेद करते जा रहे है।

समुद्रो में उठता जलजला
दरकते पहाड़ और जमीन हमें
चेतावनी दे रहे है।

बादलो का फटना
ग्लोबल वार्मिंग,भूकम्प हमें 
सावधान कर रहे है।

फिर क्यों नहीं हम
अपनी प्यारी धरती को बचाने
की सोच रहे है।

क्या हम आने वाली
पीढ़ी को यही सब विरासत में
देने जा रहे है?






















No comments:

Post a Comment