Sunday, October 6, 2013

सबको अच्छा लगता चाँद



बच्चो का यह चन्दा मामा
नील  गगन से निचे आता
लोरी गाकर  उन्हें सुलाता
तारों के संग में आता चाँद
 सबको अच्छा लगता चाँद।

अमीर-गरीब का भेद नहीं
छुआ- छुत  की  बात नहीं
एकनजर और एकभाव से
सब के घर  में जाता चाँद
सबको अच्छा लगता चाँद।

रोज चांदनी के संग आता
अंधियारे में राह दिखाता
  लेकर बारात सितारों की  
   पूनम बनठन आता चाँद  
सबको अच्छा लगता चाँद।

ईद मनाओ या करवा चौथ
करे  चाँद  का  दर्शन लोग
गीता कुरान  का भेद नहीं
सब के मन को भाता चाँद
  सब को अच्छा लगता चाँद।

No comments:

Post a Comment