Friday, August 21, 2015

सुख गया नैनों का पानी

 ओ सावन के कारे मेघा,जाकर देना उसको पाती   
बेटे-बहुएँ याद कर रहे, याद कर रही पोती रानी।         

                         बच्चे दादी-दादी करते, बहता नयनों से पानी               
         जाकर उसको कहना,कौन सुनाए उन्हें कहानी। 

 मीठी-मीठी लौरी गाकर, पोती रोज सुलाया करती                                                                                                      
परियों की बातें बतलाती, नहीं बात है बहुत पुरानी।                                                                                                        
        दरवाजे पर गुड़ खाने आ जाती धौली-काली  
             कहना याद कर रही,अंगना की तुलसी रानी।    

शाम ढले मंदिर की घण्टी,प्रभु की महिमा जब गाती                                                                                                      
 कहना उसको याद कर रही, घर की दीया ओ बाती।                                                                                                            
       मेरे सुख-दुःख की तुम,मत करना कोई भी बात     
             रोते-रोते सूख गया है, अब मेरे नयनों का पानी।         

   





No comments:

Post a Comment