Monday, August 31, 2015

रंग भरे जिन्दगी में

     सम्भाल के रखें हैं मैंने टूटी हुई माला के मनके                
      तुम मिलोगी तो फिर से सजाएगें जिन्दगी में।                      



   पतझड़ का मौसम छा गया मेरी जिन्दगी में        
             तुम आओ तो फिर से बसंत खिले ज़िन्दगी में।                  

   मुझे हर ख़ुशी मिल भी जाए तो क्या होगा        
 अगर तुम फिर से नहीं मिलो इस जिन्दगी में।              
                
मुझे और कुछ नहीं चाहिए इस जिन्दगी में      
          अगर तुम फिर से हमदम बनो जिन्दगी में।              

तुमसे बिछुड़ मेरी प्रीत टूट गई जिन्दगी से               
तुम आओ तो फिर से प्रीत लगे जिन्दगी से।    
             
      मेरी ये कविताए बंदनवार है प्रतीक्षा की      
        तुम आओ तो फिर से रंग भरे जिन्दगी में।      







3 comments: