Wednesday, September 2, 2015

वो आज सपनें में आई

जिसकी एक झलक पाने को            
मेरी आँखें तरस गई
उसके आते ही आँगन में       
प्रीत रेशमी बिखर गई 
वो आज सपनें में आई। 

मन के सुने अँधियारें में
उसने दीपक राग जलाई  
मधुर छुवन की मीठी यादें    
मेरे मन में आकर महकाई     
     वो आज सपनें में आई।  

   मन मयूर नाचा मेरा
     आँखें मेरी भर आई
   रात सुहानी कर दी उसने       
रजनीगंधा बन आई
    वो आज सपनें में आई। 

तारे डूबे एक-एक कर
      पूरब में लाली छाई 
फिर मिलने आउंगी तुमसे     
   वादा कर वो चली गई  


   वो आज सपने में आई। 

     जिसकी एक झलक पाने को             
    मेरी आँखें तरस गई 
     उसके आते ही आँगन में       
प्रीत रेशमी बिखर गई 
वो आज सपनें में आई। 

मन के सुने अँधियारें में
उसने दीपक राग जलाई  
मधुर छुवन की मीठी यादें    
मेरे मन में आकर महकाई     
     वो आज सपनें में आई।  

   मन मयूर नाचा मेरा
     आँखें मेरी भर आई
   रात सुहानी कर दी उसने       
रजनीगंधा बन आई
    वो आज सपनें में आई। 

तारे डूबे एक-एक कर
      पूरब में लाली छाई 
फिर मिलने आउंगी तुमसे     
                                                                वादा कर वो चली गई                                                                                                                               वो आज सपने  में  आई।                                                                                                                                     

[ यह कविता "कुछ अनकहीं " में छप गई है।]



No comments:

Post a Comment