Thursday, July 21, 2011

एक से दस

एक देगची
चावल दो
नहीं पके
तीन दिन वो।

चार कबूतरों
को बुलवाया
पाँच दिनों तक
पानी भरवाया।

छः चिडियों को
बिनने पर लगाया  
सात बत्तकों से
पंखा  झलवाया।

आठ चूल्हों
पर उसे चढ़ाया 
नौ मन लकड़ी
हाथी लाया।

देख रहे थे
दस -दस बच्चे
फिर भी चावल
रह गए कच्चे।

कृष्णा ने सबको
को समझाया 
खेल-खेल  में
पाठ पढ़ाया। 

कोलकत्ता
२१ जुलाई, २०११

No comments:

Post a Comment