Monday, December 26, 2011

शब्द शर

त्वचा पर लगी
खरोंच मिट जाती है,
शरीरी पर लगा
घाव भी  मिट जाता है,
लेकिन स्वजनों के
शब्द शरों के घाव
कभी नही मिटते,
वो  जिंदगी भर
टिस देते रहते। 

No comments:

Post a Comment