Saturday, February 23, 2013

अहसान तुम्हारा



तुम से शोभित घर आँगन
   तुम  से है जीने  की  चाह
                               
                                    बिना तुम्हारे फिर  कैसी
                                      दुनिया में जीने  की चाह

हँसते  हुए तुम्हे जब  देखे
   हम  सब खुश हो जाते हैं 
                                   
                                     देख उदास तुम्हारा चेहरा
                                         हम  बैचेन  हो  जाते है

प्रेरणा और शक्ति हो तुम
  हम सब की खुशहाली हो
                                         
                                           गीता की तुम वाणी हो 
                                            तुलसी की  चौपाई हो

वात्सल्य की मधुर छाँव में
    तुमने  बांटा सबको प्यार 
                                         
                                            तुम्हारे आँचल में सिमटा
                                              इस घर  का सारा संसार

 दीप लिए  दोनों हाथों में
     सब को राह दिखती हो 
                                               
                                                     आशीषो  के शीतल झोंके   
                                                       तुम  हरदम लुटाती  हो। 




No comments:

Post a Comment