Tuesday, April 30, 2013

अंग दान करे

जब कोई वस्तु हमारे काम की
नहीं रहती तब भी उसकी
उपयोगिता रहती है।

भले ही वो हमारे काम की
नहीं रहे, किन्तु किसी दुसरे
के तो काम आ ही सकती है।

शरीर जो आज हमारा है
कल हमें छोड़ कर जाना होगा
पता नहीं कब साँझ ढल जाये ।

फिर क्यो नहीं ऐसा करे कि जो 
हमारे काम का नहीं है वो किसी
दुसरे के काम आ जाये।

हम अपनी आँखे दे कर
किसी के जीवन में रोशनी की
किरण ला सकते है।

हम अपना ह्रदय देकर
किसी की धड्कनो को ज़िंदा
रख सकते है।

हम अपने फेफड़े दे कर
किसी की साँसों को जीवित
रख सकते है।

हम अपने गुर्दे दे कर
किसी के जीवन को बचा
सकते है।

शरीर के अंगो का दान कर
कई लोगो को नया जीवन
दिया जा सकता है।

तो फिर क्यों नहीं
इस शुभ कार्य की शुरुआत
हम आज ही करे।

मृत शरीर का दान कर
अनेको की जिंदगी फिर से
रोशन करे।

No one should assume

they are too old or unhealthy
to donate organs.
Even those people who know
they are dying may qualify,
as successful transplants
have been performed from
all sorts of donors.
The heart, kidneys, lungs,
pancreas and liver might be
debilitated by treatment or disease,
but eye, bone and skin tissue
may all be suitable for grafting
and transplantation.














No comments:

Post a Comment