Friday, November 1, 2013

जीवन की यादे

जीवन भी
धूप-छांव कि तरह
कितने रंग बदलता है।

कभी सुख
तो कभी दुःख
कभी ग़म तो कभी ख़ुशी।

कभी दोस्त
तो कभी अजनबी
कभी सुदिन तो कभी दुर्दिन।

नदी की तरह बहता है जीवन
पुराने बिछुड़ते रहते है
नए मिलते रहते है।

जो आज हमारा है
कल किसी और का हो जाता है
सब कुछ बदलता चला जाता है।

रह जाती है केवल चंद यादे
वो यादें जो जीवन के अंत तक
साथ निभाती है।






6 comments:


  1. बहुत ही बढ़िया

    दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका स्वागत यशवंत जी , दीपावली ढेर सारी शुभकामनाये आप और आपके परिवार को

      Delete
  2. कल 06/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete


  3. जो आज तुम्हारा है
    कल किसी और का हो जाता है
    सब कुछ बदलता चला जाता है।
    बढ़िया पंक्तियाँ |
    उम्दा रचना के लिए बधाई |
    दीपावली शुभ और मंगलमय हो |

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत धन्यवाद आशाजी I आपको भी दीपावली कि ढेर सारी शुभकामनायें I

    ReplyDelete