Friday, November 8, 2013

टर्मिनल


भाग-दौड़ भरी 
जिंदगी में परिवार 
बिखरते जा रहे है। 

सभी इतनी तेजी से 
दौड़ रहे है कि 
मुड़ कर देखने का भी 
समय नहीं है। 

जिंदगी को जीवो 
लेकिन इतनी रफ़्तार 
से भी नहीं कि सब कुछ  
पिछे छूट जाए।

दूरिया जीतनी तेजी से 
तय की जायेगी  
फासले उतने ही 
बढ़ते जायेंगे। 

वेग कि भी एक 
मर्यादा होनी चाहिए 
रुकने के लिए भी एक 
टर्मिनल होना चाहिये।

साल भर में एक बार
परिवार कि सभी गाड़ियाँ
एक साथ आकर
ठहरनी भी चाहिये। 

7 comments:

  1. कल 10/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद यशवंत जी।

    ReplyDelete
  3. bahut sahi baat uthaai aapne .. rukne ke liye ek terminal bhi hona chahiye .. well penned.

    ReplyDelete
  4. आपका बहुत बहुत स्वागत भावनाजी।

    ReplyDelete
  5. आपका आभार वन्दना जी

    ReplyDelete
  6. बहुत ख़ूबसूरत ख़याल ।

    ReplyDelete