Friday, January 4, 2013

मुझे नया जीवन दिया




साँसे लगी जब साथ छोड़ने
         विस्वास हुवा मेरा धूमिल
                  जीने का अरमान जगा कर
                         आत्म बल से पूर्ण किया
                                मुझे नया जीवन दिया।


डूब रही थी जीवन नैया
          टूट रही थी जीवन डौर
                होंसलों का थमा दामन
                        मेरे जीवन को बचा लिया
                                 मुझे नया जीवन दिया।


रंग उड़ गए सब सतरंगी
          तार-तार हर साँस हो गयी
                   आस्था का देकर सम्बल
                          मेरे संसय को दूर किया
                                 मुझे नया जीवन दिया।



देख रही मै साँसों की गति
        जो थी अब साथ छोड़ रही
                 बुझते दीपक सी लगी झपकने
                         आपने मुझे आश्वस्त किया
                                 मुझे नया जीवन दिया।


टूटती हुयी मद्धम साँसों में
         हर सांस थरथराई पारे सी
               रहबर बन कर आये आप
                        लगा लंग्ज उपकार किया 
                                मुझे नया जीवन दिया। 









1 comment:

  1. बहुत सुन्दर आशा जगाती रचना... आभार

    ReplyDelete