Tuesday, January 22, 2013

पूजा राणा




केवल नाम ही नहीं है
 तुम्हारा पूजा,
जग में कोई भी नहीं है
तुम जैसा दूजा।

तुम चमको जहाँ में
इस तरह,
कि तुम्हारा नाम पूजा
जाये हर जगह।

तुम खिलो पूनम के
सपनों की तरह,
खुशबुओं में नहाओ
चमन की तरह।

कल्पना चावला बन
आसमान में ऊड़ो,
झाँसी की रानी बन
हुंकार भरो।

मदर टेरेसा बन
समाज सेवा करो,
दुर्गा बन इतिहास में
नाम अमर करो।

फैले तुम्हारा यश
नील गगन सा,
तुम्हारी कीर्ति  का
विस्तार हो ब्रह्मांड सा।







4 comments:

  1. Thank you so much dadaji....
    loved your poem sooo much..
    aapki POOJA RANA.

    ReplyDelete
  2. Bahut hi sundar rachna apni pyari Pooja ranaji ke liye. Ati uttam.

    ReplyDelete
  3. Very nicely written poem.Pooja is lucky to have such a loving dadaji!!

    ReplyDelete
  4. पढ़ कर अच्छा लगा कि तुमको कविता पसंद आई।

    ReplyDelete