Tuesday, January 22, 2013

मतलब सूं साँणा (राजस्थानी कविता )


जका को कदैइ
की नी देखोड़ो हुवै
और जे थोड़ो-घणो
बापर ज्यावै

बो खुद ने
फैर अणुतो ही
हुंस्यार समझण
लाग ज्यावै

जै कदास कोई बात
पूछ बैठे जणासं सोचै
म्हारे में काइंठा
कतीक ऊरमा  है

आनी सोचै
गरज पड्या लोग
गधा ने भी
बाप बणाव है

सागला
आप-आपरे
मतलब सूं
साँणा हुवै है।

No comments:

Post a Comment