Thursday, July 31, 2014

अश्रुमेघ बरसते हैं

कौन पूछने आएगा अब, जीवन में सुख-दुःख को
पास बैठ कर कौन करेगा, मेरे मन की बातों को।
                   
                                      अब न कोई ख़ुशी बची, न कोई अब ख्वाइस है
                                       न सुखों को आना है अब, न दुःखों को जाना है।

अब तो ग़मों की छाया में, इस जीवन को जीना है
बची हुई साँसों को, यादों के बल पर रहना हैं।
                                   
                                     सूख चुकी अमृत की बूंदें, अब गरल को पीना है
                                     एक तुम्हारे जाने से, सब कुछ पाकर भी रीता हैं।

शब्द नहीं निकलते मुख से, आँखों से ही झरते है
मेरे जीवन में अब केवल, अश्रुमेघ बरसते हैं।


No comments:

Post a Comment