Tuesday, June 16, 2015

आज भी बसी हो मेरी यादों में

कौन कहता है
कि तुम चली गई
तुम तो आज भी बसी हो
मेरी यादों में

मेरी साँसों में
मेरे दिल में और
अब तो तुम आने लगी हो
मेरी बातों में

दो साल से
तुम्ही तो छाई हुई हो
मेरी कविताओं में

अगले जन्म में
तुम फिर मिलना
मुहब्बत का फूल लिए
हाथों में

मेरे जैसा दीवाना
तुम्हें और कहाँ मिलेगा
इस दुनियां में।







No comments:

Post a Comment