Monday, June 15, 2015

मोहब्बत की डोर

जैसे हवा
रहती है हर जगह
वैसे ही अब तुम रहती हो

हवा दिखाई नहीं देती
लेकिन अपने होने का
अहसास करा देती है

कभी दरवाजे को
हल्का सा थपथपा कर
तो कभी पेड़ की पत्तियों को
धीरे से सरसरा कर

तुम भी हवा की तरह
थिरकती रहती हो
मेरे चहु ओर

कभी निकल जाती हो
बगल से छू कर
तो कभी बिखर जाती  हो
खुशबु बन कर

तुम्हें मेरा छूना
वैसा ही है जैसा किसी
बादल को छूना

सन्दली हवाओं के
धागों से आज भी बंधी है
हमारी मोहब्बत की डोर।


















No comments:

Post a Comment