Friday, September 2, 2011

हरा पत्ता

जब पीला पत्ता
डाल से गिरता है
हरा पत्ता थोड़ा
कांपता  है। 

लेकिन
थोड़ी देर बाद  
शान्त हो जाता है। 

बसंत आते ही
हरा पत्ता फिर
लहलहाता है। 

वो नहीं जानता
मरने के बाद
आत्माओं के सफ़र
के बारे में। 


कोलकता 
२ सितम्बर, २०११
(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )


No comments:

Post a Comment