Thursday, January 19, 2012

अपनी संस्कृति

खुबसूरत हाइवे,
तेज रफ़्तार से चलती गाड़ियाँ
गाड़ियों में चाय-काफी पीते हुए
मौजमस्ती करते अमरीकी। 

बीच और डिस्को की मस्ती
वीकेंड पर घूमना-फिरना
किशोरावस्था में फ्रेन्ड के साथ रहना
मनमानी का जीवन जीते अमरीकी ।                          

मूंगफली और बादाम एक भाव
शराब और पानी एक भाव,
हेनरीज-कोसको-वालमार्ट में 
खरीददारी करते अमरीकी।                                                                                                          

जाते हैं हमारे बच्चे भी
पढ़ाई के लिए अमेरिका,
फिर ढूंढते है वहाँ नौकरी और
पाकर जीवन-साथी बन जाते है अमरीकी।                                                                 

धीरे-धीरे बस जाता है अमेरिका
उनकी साँसों में,उनके जीवन में,  
फिर भी वो नहीं भूलते अपने  देश को
अपनी संस्कृति को, बन कर भी अमरीकी।                                                  


तीज-त्योहारों पर पहनते  हैं
भारतीय पोशाकें,सजाते है आरती के थाल
करवाते हैं पंडित से पूजा-पाठ
प्रसाद को चाव से खाते है अमरीकी ।                                                    

(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )

1 comment: