Friday, January 6, 2012

ताजमहल


मैंने भावुक हो कर कहा -
काश ! मै  भी तुम्हारे लिए
एक ताजमहल बनवाता।

पत्नि ने गंभीर हो कर कहा-
कागज़ की संगमरमरी देह पर
मेरे लिए लिखी तुम्हारी कवितायेँ 
सौ ताजमहलों से भी
बढ़ कर खूबसूरत है।


(यह कविता  "कुमकुम के छींटे" नामक पुस्तक में प्रकाशित है )


No comments:

Post a Comment