Saturday, January 17, 2015

तुम याद आओगी

   हम प्रति वर्ष जाते थे , गंगा स्नान करने साथ-साथ
अब गंगा स्नान करने जाऊँगा, तो तुम याद आओगी।

  दुनियाँ को घूम कर देखा था, हम दोनों ने साथ-साथ
अब कभी विदेश घूमने जाऊंगा,तो तुम याद आओगी।

छुट्टियां होते ही हम गांव घूमने चले जाते थे साथ-साथ
अब कभी गाँव घूमने जाऊंगा, तो तुम याद आओगी।

पिछले सावन खेत में भीगे थे, हम दोनों साथ-साथ
अबकी सावन खेत जाऊंगा, तो तुम याद आओगी।

  शादी की स्वर्ण-जयंती मनाई थी, हमने साथ-साथ
अगली शादी की साल गिरह पर, तुम याद आओगी।

जिंदगी की राह-सफर में, हम दोनों चले थे साथ-साथ
जीवन की सुनी राहों पर, अब मुझे तुम याद आओगी।










No comments:

Post a Comment