Sunday, January 18, 2015

कैसे जीवूं बिना तुम्हारे

साथ मेरा बचपन का छुटा
मेरे मन का मीत जो रूठा
  जीवन के मिट गए नज़ारे
     कैसे जीवूं  बिना तुम्हारे।

 सुकून नहीं अब  दिल को मेरे                                 
दुःख-दर्द बन गए साथी मेरे                              
जीवन के सब सपने बिखरे                             
 कैसे  जीवूं  बिना  तुम्हारे।                          

    विरही मन को दर्द रुलाए 
    याद तुम्हारी जिया जलाए
    बहते आँखों से अश्रु पनारे
        कैसे जीवूं  बिना तुम्हारे।

  जब भी याद तुम्हारी आए                       
अंतस की पीड़ा मुस्काए                   
जीवन के बुझ गए सितारे                    
कैसे जीवूं बिना तुम्हारे।               
  मेरे  सारे  स्वप्न  खो  गए
मन वीणा के तार टूट गए 
 छूट गए अब सभी सहारे 
    कैसे जीवूं बिना तुम्हारे। 



No comments:

Post a Comment