Friday, August 24, 2012

जीवन रथ की वल्गा

चौबीसों घंटे ओक्सीजन
       मास्क लगाए रखना ,
          औषधियों के डिब्बो से
             हर समय घिरे रहना |

ओक्सिमिटर से सेचुरेशन
    लेवल चेक करते रहना,
      कन्सेंनट्रेटर और सिलेंडर
        को ऐडजस्ट करते रहना। 

दिनचर्या के सभी काम
प्रतिदिन स्वयं करना,
      खाना बनाना,घुमना, योग    
     और प्राणायाम सभी करना।                                                                   

मै आश्चर्य से देखता रहता हूँ
तुम्हारा ध्येर्य और विस्वास 
                   सभी करते है तुम्हारी प्रशंसा
              देख तुम्हारी हिम्मत और साहस।       

    लगता है  तुम्हारे जीवन का
झरना पाताल लोक से बहता है,
                  तुम्हारे जीवन रथ की वल्गा
             स्वयं प्रभु हाथ में थामे रखता है ।
  

No comments:

Post a Comment