Monday, August 27, 2012

यादों में गाँव






याद घणेरी आवे म्हाने
परदेशा में गाँव की ।
              भर बाटको छाछ राबड़ी
                   दोपारी में पिवण की।

दूध, दही और कांदा रोटी
घनै चाव से खावै  बठै।
              खीर,चूरमो और खीचड़ो
               देख हियो हुल सावै बठै।

काचर, बोर, काकड़ी मीठी
मीठा गटक मतीरा बठै।
             कैर,सांगरी, मोरण  सिट्टा
               सगला के मन भावै बठै।

सावण भादों बिरखा बरसे  
छमछम नाचै मोर बठै।
               तिजनियाँ हिलमिल गावै
                   मीसरी मघरा गीत बठै।

ऊँचा -ऊँचा धोरा ऊपर
उड़ती सोनल रेत बठै।
                रात चांदनी में अलगोजो
                        टैरे मूमल गीत बठै।

खेत खेत मे धोरा ऊपर
झुंपा- झोंपड़ियाँ बठै।
                  गोट उठै  धुंअै का उँचा
                    टाबर धूम मचावै बठै।

साँझ  पड्या गायां रंभाव
रीड़क काली भैस्यां बठै।
                 घर धिराणी  दही घमौड़
                  माखन भरिया माठ बठै।




No comments:

Post a Comment