Friday, August 24, 2012

गंगा




भगीरथ के  तप प्रताप से
तारण हार बन आई गंगा
                   
                   शिव की जटाओ  में  उतर 
                    कैलाश से निचे आई गंगा

हिम शिखरों को लगा अंग  
बल खाती हुयी आई  गंगा 
                   
                    नदी नालो को लेकर  संग
                    देश की नियंता बनी  गंगा

  अपने पथ को हरित बना
गावों को समृद्ध करे गंगा
                   
                     पान करा अमृत  सा जल
                     सागर से जाय मिले गंगा 

घाटो  पर सुन्दर  तीर्थ बने  
संतो की शरण स्थली गंगा
                 
                  जीवन दायिनी मोक्ष दायिनी 
                       भव सागर पार करे  गंगा
  
अन्तिम साँस थमे तट पर
   बैकुंठ की सीढ़ी बने गंगा
                       
                    दुखियों के दुःख को दूर करे 
                        जीवन  के पाप हरे गंगा।




No comments:

Post a Comment