Wednesday, August 29, 2012

गणतंत्र दिवस

छब्बीस जनवरी आई 
खुशियों की बौछारे लाई,
नर नारी मिल गाते गान
मेरा भारत देश महान।
नया जोश और नयी उम्मीदे
लेकर प्रति वर्ष आता यह,
सबका मन पुलकित करदे  
ऐसा पावन रास्ट्र पर्व यह।
आओ जन-गण-मन सत्यमेव जयते दोहराये
वीर शहीदों के नारों से
देश प्रेम की ज्योत जलायें।

अमीर-गरीब का भेद मिटा
जात-पांत को दूर भगाये
हर हाथ को काम मिले
ऐसा अपना देश बनाये।

मिल कर सभी करे प्रयास
दुनिया में हो देश का नाम
विश्व गुरु हम फिर कहलाये
दुनिया फिर से करे सम्मान।


No comments:

Post a Comment