Monday, August 27, 2012

युगयुगान्तर तक






चाँद के संग चांदनी
वैसे ही जुड़ा है
मेरे गीतों के संग
तुम्हारा नाम ।

मैंने कविता की
हर पंक्ति और हर छंद
में लिखा है
तुम्हारा नाम।

लोग कहते है
कवि मर जाता है 
लेकिन कविता
अमर रहती है।

एक बार लिखे
गए शब्द पीढ़ियों
यात्रा करने में 
सक्षम होते है।

मेरे ये गीत
कालांतर में जीवित रहेंगे
इनके साथ जुड़ा रहेगा
तुम्हारा नाम।

आनेवाली पीढियां
प्रेम से पढेगी
मेरे गीतों के साथ 
तुम्हारा नाम।

युगयुगान्तर तक
अमर रहेंगे
मेरे गीत
तुम्हारा नाम  |

No comments:

Post a Comment