Sunday, August 19, 2012

मरुधर (राजस्थानी कविता )





नावं सुण्या सुख उपजै
   हिवड़े हरख अपार ।
                इस्यो मरुधर देश में
                घणी करे मनवार ।।     


मरुधर सावण सोवणो
      बरस मुसलधार । 
                मरवण ऊबी खेत में
                  गावै राग मल्हार।।


सोनल वरणा धोरिया
    मीसरी मघरा बैर ।
         बाजरी की सौरभ गमकै
             ले-ले मरुधर ल्हैर ।।


पल में निकले तावड़ो 
     पल में ठंडी छांह ।
              इस्या मरुधर देश में
             खेजड़ल्या री छांह ।।


मरुधर साँझ सुहावणी
बाजै झीणी बाळ ।
           बालक घैरै बाछड़या
           गायां लार गुवाल ।।


रिमझिम बरसे भादवो
      छतरी ताने मौर ।
           मरुधर म्हारो सोवणों
           सगला रो सिरमौर ।।


छैला झुमै फाग में
गूंजे राग धमाल ।
           घूमर घालै गोरड्या
              उड़े रंग गुलाल ।।











No comments:

Post a Comment